loading
Ashutosh pandey
30 October 2017 7:27:14 AM UTC in HIndi Shayari

इलाही ख़ैर लबे बाम है सनम देखो

इलाही ख़ैर लबे बाम है सनम देखो
ये हादसा भी नहीं है किसी से कम देखो
(guest)

0

Reply