loading
Dharmen Kumar
25 September 2017 8:16:25 AM UTC in Shayari

वो सुबह !

और  उस  सुबह  सी  कोई  सुबह ना हुई ! 
ए  दोस्त !
जिस  सुबह  हमारी  नजरे  उनके  नूर  से  टकरा  गयी !
(guest)

0

Reply